Sunday, February 25, 2024
Homeदेशनीम करोली बाबा के बुलेटप्रुफ कंबल की कहानी? जिसने बचाई थी देश...

नीम करोली बाबा के बुलेटप्रुफ कंबल की कहानी? जिसने बचाई थी देश के सैनिक की जान

नीम करोली बाबा का नाम आज देश ही नहीं विदेश के हर व्यक्ति के जुबान में है. उत्‍तराखंड स्थित कैंची धाम में बाबा नीम करौली के आश्रम में देश ही नहीं दुनिया के कोने कोने से लोग आशीर्वाद लेने आते है. नीम करोली बाबा के बारे में कई चमत्कारिक कहानी है जो वाकई में आपको चौका कर रख देगी.

नीम करोली बाबा के बुलेटप्रुफ कंबल की कहानी? जिसने बचाई थी देश के सैनिक की जान

अपने चमत्कार से कई गरीबो को अमीर बनाने की क्षमता नीम करोली बाबा ने रखी है. नीम करोली बाबा में मत्था टेकने सिर्फ इंडिया क्रिकेट टीम के विराट कोहली ही नहीं. इससे पहले फेसबुक फाउंडर मार्क जुकरबर्ग, एप्‍पल के को-फाउंडर स्‍टीव जाब्‍स जैसे लोग भी पहुंच चुके है. नीम करौली बाबा के चमत्कार के किस्से सुनने और अपनी परेशानियों को दूर करने के लिए हर दिन लाखो श्रद्धालू नीम करौली बाबा के आश्रम कैची धाम पहुंचते है. कहा जाता है की नीम करोली बाबा पवन पुत्र हनुमान के अवतार माने जाते है. कैची धाम में श्रद्धालु कम्बल चढ़ाते है

नीम करोली बाबा के बुलेटप्रुफ कंबल की कहानी? जिसने बचाई थी देश के सैनिक की जान

जैसा की आप लोगो को लगता होगा की कैची धाम यानि नीम करोली बाबा के आश्रम में अक्सर ठण्ड रहती है इस वजह से वहां के करोली बाबा अक्सर कम्बल ओढ़कर रखा करते थे. लेकिन ठंडी का इन सब चीज़ो से कोई लेना देना नहीं था. दरअसल नीम करोली बाबा के साथ कम्बल से जुडी कुछ ऐसी चीज़ हुई जिसका किस्सा आज सदियों तक लोगो की जुबान में है. इस घटना का जिक्र एक किताब ‘मिरेकल ऑफ लव’ में भी किया गया है

Read Also: Gold Rings Disigne 2024: गोल्ड रिंग्स का आकर्षक लुक बनाएगा आपको और भी स्टाइलिश

Read Also: शादी हो या पार्टी में ट्राई करें ये खूबसूरत स्टाइलिश मंगलसूत्र की डिजाइन,देखे लेटेस्ट क्लेक्शन की डिजाइन

किताब ‘मिरेकल ऑफ लव’ में इस घटना का जिक्र करते हुए बताया गया की नीम करोली बाबा को चाहने वाले लाखो करोडो में भक्त है. ऐसे में कई सालो से उन्हें चाहने वाले अंधे भक्त थे. जो उनके एक इशारे में कुछ भी कर गुजरते थे. किताब में विस्तार से कहानी लिखते हुए बताया गया की एक दिन नीम करोली बाबा अपने एक बुर्जग दंपति भक्त के घर पहुंचे। और कहा की आज की रात वो यही विश्राम करेंगे. चूँकि दम्पति गरीब था और उन्हें लगा की वो कैसे अपने बाबा का सत्कार करेंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments