गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल में करे यह काम, उत्पादन होगा बंपर

गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल में करे यह काम, उत्पादन होगा बंपर!

गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल में करे यह काम, उत्पादन होगा बंपर!

गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल में करे यह काम, उत्पादन होगा बंपर!

गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल में करे यह काम, उत्पादन होगा बंपर

गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल में करे यह काम, उत्पादन होगा बंपर!गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल में करे यह काम, उत्पादन होगा बंपर गर्मी का मौसम बैंगन की खेती के लिए सबसे अच्छा समय होता है। यदि आप गर्मी के मौसम में बैंगन की खेती कर रहे हैं, तो कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखना होगा, जो आपको बंपर उत्पादन प्राप्त करने में मदद कर सकती हैं।बैंगन की खेती आप घर के आंगन में या छत पर भी गमले में, या ग्रो बैग में बड़ी आसानी से कर शकते है। कई किसान रबी फसल की कटाई कर के अच्छे से खेत की जुताई कर के ग्रीष्मकालीन बैंगन की खेती करते है। और अच्छा उत्पादन के साथ अच्छी कमाई भी करते है।

यहाँ कुछ महत्वपूर्ण बातें बताई गई हैं:

किस्म का चयन: गर्मी के मौसम के लिए उपयुक्त किस्मों का चयन करना बहुत महत्वपूर्ण है। कुछ लोकप्रिय किस्में हैं:

  • पंत संकर नौ: यह एक उन्नत किस्म है जो गर्मी और रोगों को सहन कर सकती है।
  • पी.के.एम. 1: यह एक अर्ध-संकर किस्म है जो उच्च पैदावार देती है।
  • अर्का गौरी: यह एक उन्नत किस्म है जो फल मक्खी के प्रतिरोधी है।

बुवाई: गर्मी के मौसम में बैंगन की बुवाई मार्च-अप्रैल में की जाती है। बुवाई से पहले बीजों को 24 घंटे के लिए पानी में भिगो दें।

रोपाई: रोपाई 30-45 दिन बाद, जब पौधों में 4-5 पत्तियां हो जाएं, तब करें। रोपाई करते समय पौधों के बीच 60-75 सेंटीमीटर की दूरी रखें।

खाद और सिंचाई:

  • खाद:
    • रोपाई के 15-20 दिन बाद, 20-25 किलोग्राम नाइट्रोजन, 10-15 किलोग्राम फास्फोरस और 10-15 किलोग्राम पोटेशियम प्रति हेक्टेयर की दर से खाद डालें।
    • फल आने के समय, 10-15 किलोग्राम नाइट्रोजन प्रति हेक्टेयर की दर से शीर्ष खाद डालें।
  • सिंचाई:
    • गर्मी के मौसम में नियमित रूप से सिंचाई करें।
    • जलभराव से बचें।

निराई-गुड़ाई:

  • खरपतवारों को नियमित रूप से हटा दें।
  • मिट्टी को ढीला रखें।

रोग और कीट:

  • गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल को कई रोगों और कीटों का खतरा होता है।
  • रोगों में झुलसा, मृदु विल्ट, और पत्तों का धब्बा शामिल हैं।
  • कीटों में फल छेदक, तना छेदक, और एफिड्स शामिल हैं।
  • उचित रोग नियंत्रण और कीट प्रबंधन तकनीकों का उपयोग करें।

तुड़ाई:

  • फल पकने पर तुड़ाई करें।
  • तुड़ाई करते समय फल को डंठल सहित तोड़ें।

उपज:

  • उचित देखभाल के साथ, एक हेक्टेयर से 20-25 टन बैंगन की उपज प्राप्त हो सकती है।

बाजार:

  • बैंगन का बाजार में अच्छा मूल्य मिलता है।
  • आप बैंगन को स्थानीय बाजार, मंडी या सुपरमार्केट में बेच सकते हैं।

यह भी ध्यान रखें:

  • गर्मी के मौसम में बैंगन की फसल को धूप से बचाना महत्वपूर्ण है।
  • आप पौधों के चारों ओर छायादार जाल लगाकर ऐसा कर सकते हैं.

मुझे उम्मीद है कि यह जानकारी आपके लिए उपयोगी होगी!

अतिरिक्त जानकारी:

  • आप कृषि विश्वविद्यालयों, कृषि विज्ञान केंद्रों, और कृषि अधिकारियों से भी सलाह ले सकते हैं.

यह भी ध्यान रखें:

  • कृषि एक जोखिम भरा व्यवसाय है।
  • कृषि में निवेश करने से पहले, आपको बाजार की मांग, मौसम की स्थिति, और अन्य जोखिमों का आकलन करना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *