June 14, 2024

कम समय में आपको बेहद अमीर बना देगी पपीते की खेती,जानिए इसकी खेती का उन्नत तरीका

पपीते की खेती: आज के समय में खेती के तरफ लोगों का रुझान बढ़ रहा है क्योंकि खेती काफी ज्यादा फायदा देने लगी है. आपको बता दें कि लगातार खेती-बाड़ी के तरफ लोगों का रुझान बढ़ने से लोगों को खेती में फायदा होने लगा है.

आजकल लोग खेती में वैज्ञानिक तरीकों का भी उपयोग करते हैं यही वजह है कि लोगों को अधिक ज्यादा मुनाफा होने लगा है. हम आपको पपीते की खेती के बारे में बताने वाले हैं.

पपीते की खेती आपको कम समय में अमीर बना देगी क्योंकि पपीते की खेती का मांग हमेशा बना रहता है और यह फसल भी काफी महंगी बिकती है.

कम समय में आपको बेहद अमीर बना देगी पपीते की खेती,जानिए इसकी खेती का उन्नत तरीका

पौधा लगाने के फायदे

पपीता जैसे बहुत महंगे बीज की नर्सरी तैयार कर लेने से ,नुकसान कम होता है . भूमि का उचित उपयोग सुनिश्चित करता है. बेहतर वृद्धि और विकास के लिए सुगमता होती है. नर्सरी उगा लेने से समय की भी बचत होती है. अनुकूल समय तक पौध प्रतिरोपण के विस्तार की संभावना रहती है. विपरीत परिस्थिति में भी पौध तैयार किया जा सकता है. नर्सरी क्षेत्र की देखभाल और रखरखाव में आसानी होती है.

कम समय में आपको बेहद अमीर बना देगी पपीते की खेती,जानिए इसकी खेती का उन्नत तरीका

नर्सरी की मिट्टी कैसे करें तैयार

यदि संभव हो तो Plastic Tunnel से ढकी जुताई वाली मिट्टी पर लगभग 4-5 सप्ताह तक मिट्टी का सोलराइजेशन (Soil Solarization) करना बेहतर होता है. बुवाई के 15-20 दिन पहले मिट्टी को 4-5 लीटर पानी में 1.5-2% फॉर्मेलिन घोल कर प्रति वर्ग मीटर की मात्रा में मिलाकर प्लास्टिक शीट से ढक दें.

Also Read:Health News:कई बीमारियों से लड़ने में मदद करता है पिस्ता बदाम,जानिए इसके कुछ खास गुण

कैप्टन और थीरम जैसे कवकनाशी @ 2 ग्राम /लीटर की दर से घोल बना कर मिट्टी के अंदर के रोगजनकों को भी मार देना चाहिए. फुराडॉन, हेप्टाक्लोर कुछ ऐसे कीटनाशक हैं जिन्हें सूखी मिट्टी में 4-5 ग्राम/वर्ग मी की दर से मिलाया जाता है और नर्सरी तैयार करने के लिए 15-20 सेंटीमीटर की गहराई तक मिलाया जाना चाहिए. ढकी हुई पॉलीथीन शीट के नीचे कम से कम 4 घंटे लगातार गर्म भाप की आपूर्ति करें और मिट्टी को बीज बिस्तर तैयार करते है .

कम समय में आपको बेहद अमीर बना देगी पपीते की खेती,जानिए इसकी खेती का उन्नत तरीका

बीज का सलेक्शन

पपीते के उत्पादन के लिए नर्सरी में पौधों का उगाना बहुत महत्व रखता है. इसके लिए बीज की मात्रा एक हेक्टेयर के लिए 500 ग्राम पर्याप्त होती है. बीज पूर्ण पका हुआ, अच्छी तरह सूखा हुआ और शीशे की जार या बोतल में रखा हो जिसका मुंह ढका हो और 6 महीने से पुराना न हो, उपयुक्त है. बोने से पहले बीज को 3 ग्राम केप्टान से एक किलो बीज को उपचारित करना चाहिए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *