July 18, 2024

किसानों को लखपति बना देंगी कटहल की खेती कम लागत में बंपर कमाई,जानें पुरी जानकारी

किसानों को लखपति बना देंगी कटहल की खेती कम लागत में बंपर कमाई

किसानों को लखपति बना देंगी कटहल की खेती कम लागत में बंपर कमाई

किसानों को लखपति बना देंगी कटहल की खेती कम लागत में बंपर कमाई,जानें पुरी जानकारी कटहल एक ऐसा फल है जिसका सेवन हम सभी करते हैं, लेकिन बहुत कम लोग इसके गुणों के बारे में जानते हैं.इसकी खास बात यह है कि इसका उपयोग फल और सब्जी दोनों के रूप में किया जाता है. कटहल के स्नैक्स भी बनाए जाते हैं. मधुमेह को नियंत्रित करने में भी कटहल का काफी फायदा होता है.

किसानों को लखपति बना देंगी कटहल की खेती कम लागत में बंपर कमाई,जानें पुरी जानकारी

कटहल उत्पादन में ओडिशा है सबसे आगे, जानें इन पांच राज्यों में कितनी होती है  पैदावार - Photo Gallery -

कटहल गर्म जलवायु में उगाया जाने वाला फल है.इसकी उत्पत्ति मूल रूप से भारत में हुई थी.यह पेड़ पर उगने वाला सबसे बड़ा फल है.इसका स्वाद और बनावट काफी खास होता है. कृषि वैज्ञानिक प्रोफेसर सिंह बताते हैं कि कटहल में मधुमेह को रोकने की क्षमता होती है.बहुत तेजी से लोग मधुमेह से बचाव के लिए कटहल उत्पादों का इस्तेमाल कर रहे हैं.आने वाले समय में कटहल की मांग कई गुना बढ़ने वाली है,ऐसा हम कह सकते हैं.इसलिए मानसून के मौसम में जरूर कटहल का पौधा लगाएं. कटहल 25-35 डिग्री सेल्सियस (77-95 डिग्री फारेनहाइट) के तापमान में अच्छा फलता है. इसे साल में 1500-2500 मिमी बारिश की जरूरत होती है.इसे तटीय क्षेत्रों, मैदानों और पहाड़ी क्षेत्रों सहित विविध कृषि-जलवायु क्षेत्रों में उगाया जा सकता है.

कटहल के प्रमुख उत्पादक राज्य

भारत में कटहल का सबसे बड़ा उत्पादक राज्य केरल है. इसके बाद कर्नाटक, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल आते हैं. इन राज्यों में जलवायु की स्थिति कटहल की खेती के लिए अनुकूल है. कटहल के पेड़ों को ऐसी मिट्टी की आवश्यकता होती है जिसमें पानी की अच्छी निकासी हो. आमतौर पर इसकी खेती मानसून के मौसम में की जाती है. इसके पेड़ों को नियमित रूप से पानी देने की जरूरत होती है, खासकर गर्मियों के दौरान.

यह भी पढ़े Gulab ki kheti:किसानों को धनवान बना देंगी गुलाब के फूल की खेती होंगा तगड़ा मुनाफा,जाने पूरी जानकारी

कटहल की कई किस्में

कटहल का पेड़ बीज से उगाया जाता है, इसलिए इसकी जैव विविधता प्रचुर मात्रा में होती है. अभी तक कटहल की कोई मानक प्रजाति विकसित नहीं की गई है. कई अनुसंधान केंद्रों ने कटहल की उन्नत किस्मों को विकसित किया है. खाजा, स्वर्ण मंजरी, स्वर्ण पूर्ति (सब्जी के लिए), एनजे-1, एनजे-2, एनजे-15 और एनजे-3, मट्टमवक्का कटहल की किस्में हैं.

कटहल की किस्मों के बारे में जानकारी

किसानों को लखपति बना देंगी कटहल की खेती कम लागत में बंपर कमाई,जानें पुरी जानकारी

यह टॉप 6 राज्य जो कटहल उत्पादन के लिए जाने जाते है। - iKhedut Putra

खाजा – इस किस्म के फल जल्दी पक जाते हैं, यह ताजे पके फलों के लिए उपयुक्त किस्म है.
स्वर्ण मंजरी – यह एक बेहतरीन किस्म है जो छोटे पेड़ पर बड़ी संख्या में बड़े फल देती है. यह किस्म फरवरी के पहले हफ्ते में फल देती है. इन फलों को छोटा होने पर ही बेचा जा सकता है. इससे अच्छी आमदनी होती है.
स्वर्ण पूर्ति – यह सब्जी के लिए उपयुक्त किस्म है. इसका फल छोटा (3-4 किलो) और गहरे हरे रंग का होता है. इसमें रेशे कम, बीज छोटे और छिलका पतला होता है. इसका बीच का भाग नरम होता है. इस किस्म में फल देर से पकता है. इसलिए इसे लंबे समय तक सब्जी के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *