July 14, 2024

क्या आप जानते है,सूर्यपुत्र कर्ण की पत्नी कौन थी??

क्या आप जानते है,सूर्यपुत्र कर्ण की पत्नी कौन थी??

क्या आप जानते है,सूर्यपुत्र कर्ण की पत्नी कौन थी?? कर्ण, सूर्य और कुंती के आध्यात्मिक पुत्र थे। पांडु के साथ उनकी शादी से पहले कर्ण का जन्म हुआ था। वह सभी पांडव में सबसे बड़ा था।कर्ण दुर्योधन के सबसे करीबी दोस्त थे । और कुरुक्षेत्र युद्ध में पांडव (उनके भाइयों) के खिलाफ लड़ते थे। यह माना जाता है कि कर्ण ने करनाल शहर की स्थापना की थी जो वर्तमान हरियाणा में है।

क्या आप जानते है,सूर्यपुत्र कर्ण की पत्नी कौन थी??

कर्ण की पत्नी कौन थी??

व्रूशाली और सुप्रिया कर्ण की दो पत्नियां थीं। मान्यताओं के अनुसार दिखने में दोनों ही बहुत सुंदर थी। ‘अंग’ देश के राजा कर्ण की पहली पत्नी का नाम वृषाली था। जिससे कर्ण को वृषसेन, सुषेण तथा वृषकेत नामक तीन पुत्र प्राप्त हुए। ऐसी कथाएं प्रचलित हैं कि वृषाली दुर्योधन के रथ के सारथी सत्यसेन की बहन थी। कर्ण की मृत्यु के बाद वृषाली ने अपने पति की चिता पर ही समाधी ले ली थी। 

Read Also: कन्या भोज कराते समय इन बातों का जरूर रखें ध्यान,घर में होगी बरकत होगा धन लाभ


दूसरी पत्नी का नाम सुप्रिया था। सुप्रिया का जिक्र महाभारत में बहुत कम वर्णित है।
रुषाली और सुप्रिया से कर्ण के नौ पुत्र थे। वृशसेन, वृशकेतु, चित्रसेन, सत्यसेन, सुशेन, शत्रुंजय, द्विपात, प्रसेन और बनसेन।

द्रोपदी कर्ण से विवाह करना चाहती थीं, हुआ यूं कि द्रोपदी कर्ण का चित्र देखकर उन्हें पसंद करने लगी थीं। जब स्वयंवर का दिन आया तो द्रोपदी की दृष्टि सभी राजाओं और पांडवों में से कर्ण को ढूंढ़ रही थी।

लेकिन, द्रोपदी को जब पता चला कि कर्ण एक सूतपुत्र हैं और अगर उसका विवाह कर्ण से होता है तो वो जीवनभर एक दास की पत्नी के रूप में पहचानी जाएगी। इसलिए कर्ण की वजह उन्होंने पांडवों का वरण किया।

और इस तरह कर्ण की द्रोपदी से विवाह की ख्वाहिश पूरी न हो सकी। इसलिए बाद में उसने दो विवाह किए। कर्ण का पहला विवाह वरुशाली के साथ हुआ। वरुशाली दुर्योधन के सारथी सत्यासेन की सुशील और सुंदर कन्या थी। कर्ण की मृत्यु के बाद वरुशाली उसकी चिता पर सती हो गई थी।

यह भी पढ़े: चैत्र नवरात्रि में भूलकर भी ना करें यह गलतियां, वरना नाराज हो जाएगी मां दुर्गा,जाने यहां

कर्ण की दूसरी पत्नी थी सुप्रिया जो कि दुर्योधन की पत्नी भानुमती की सहेली थी। सुप्रिया के दो पुत्र थे वृशासेन और सुशेन, जिन्होंने आगे कर्म का वंश चलाया। दुर्लभ बात यह भी है कि तमिल साहित्य में कर्ण की पत्नी का नाम पोन्नारुवि बताया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *