तरबूज की खेती से किसानों की चमकेंगी किस्मत,होगी लाखों की कमाई,जानें इसे करने का तरीका

तरबूज की खेती से किसानों की चमकेंगी किस्मत,होगी लाखों की कमाई,

तरबूज की खेती से किसानों की चमकेंगी किस्मत,होगी लाखों की कमाई,

तरबूज की खेती से किसानों की चमकेंगी किस्मत,होगी लाखों की कमाई,जानें इसे करने का तरीका आपकी जानकारी के लिए बता दे की किसान भाइयो की मार्च तक कटाई का काम पूरा हो जाएगा और इसके बाद खेत खाली हो जाएंगे। ऐसे में अगर आप भी खेती कर मुनाफा कमाना चाहते है तो तरबूज की खेती आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकता हैं।और तरबूज की खेती की खास बात ये हैं इसे कम पानी,कम खाद और कम लागत में उगाया जा सकता है।वहीं बाजार में इसकी मांग होने से इसके भाव अच्छे मिलते हैं। आइये जानते है इसकी खेती के बारे में पूरी जानकारी।

तरबूज की खेती से किसानों की चमकेंगी किस्मत,होगी लाखों की कमाई,जानें इसे करने का तरीका

Watermelon: कहां से आता है तरबूज? जानें किस राज्य के किसान हैं इसे उगाने  में सबसे आगे - uttar pradesh leads in the watermelon production only seven  state 80 percent -

इन राज्यों में होती है तरबूज की खेती

आपकी जानकारी के लिए बता दे की इसकी खेती उत्तर प्रदेश,कर्नाटक, पंजाब, हरियाणा और राजस्थान राज्य में मुख्य रूप में की जाती है।

यह भी पढ़े Earrings Designs 2024:मार्केट में आ गए डेलीवियर की लेटेस्ट इयररिंग्स के डिजाइन,देखें डिज़ाइन

तरबूज की खेती करने का उचित समय

आमतौर पर देखा जाये तो तरबूज की खेती दिसंबर से लेकर मार्च तक की जा सकती है।लेकिन तरबूज की बुवाई का उचित समय मध्य फरवरी माना जाता है।वहीं पहाड़ी क्षेत्रों में मार्च-अप्रैल के महीनों में इसकी खेती कर सकते है।

तरबूज की खेती के लिए जलवायु और मिट्टी

तरबूज की खेती से किसानों की चमकेंगी किस्मत,होगी लाखों की कमाई,जानें इसे करने का तरीका

तरबूजे की खेती के लिए अधिक तापमान वाली जलवायु सबसे अच्छी मानी जाती है।अधिक तापमान से फलों की वृद्धि अधिक होती है।बीजों के अंकुरण के लिए 22-25 डिग्री सेटीग्रेड तापमान अच्छा रहता है।अब बात करें इसकी खेती के लिए मिट्टी की तो रेतीली और रेतीली दोमट भूमि इसके लिए सबसे अच्छी रहती है।वहीं मिट्टी का पी. एच. मान 5.5-7.0 के बीच होना चाहिए। बता दें कि इसकी खेती अनुपजाऊ या बंजर भूमि में भी की जा सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *