Sunday, February 25, 2024
Homeहेल्थ टिप्सBaby Helth Care: क्या आप जानते है बच्चो को बोटल से दूध...

Baby Helth Care: क्या आप जानते है बच्चो को बोटल से दूध पिलाना सही है या गलत क्या प्रभाव पड़ता है बच्चों की सेहत पर ?

Baby Helth Care: दोस्तों आप सबको यह तो पता ही है की छोटे बच्चो के लिए सबसे उपयुक्त माँ का दूध होता है 6 महीने तक बच्चो को दूध बहुत जरुरी होता है बचा अपना पोसन दूध से ही लेता है ,इस लेख में हम आपको बताएंगे कि नवजात शिशुओं को बोतल से  पिलाना सही है या नहीं और इसका उनके स्वास्थ्य पर क्या प्रभाव पड़ता है?

Baby Helth Care: क्या आप जानते है बच्चो को बोटल से दूध पिलाना सही है या गलत क्या प्रभाव पड़ता है बच्चों की सेहत पर ?

इसे भी पढ़े :- Hair Care Tips – बाल झड़ने की समस्या से परेशान है तो, इन घरेलू नुस्खे की वजह होगी परेशानी दूर

क्या शिशुओं को बोतल से दूध पिलाना है सही?

कई हेल्थ रिपोर्ट्स के मुताबिक, शिशुओं के लिए 6 माह तक बोतल से दूध पिलाना सही होता है। वहीं, 6 माह के बाद उन्हें सॉलिड आहार देना चाहिए। बोतल से दूध पिलाना उनके स्वास्थ्य के लिए सही नहीं होता है। लेकिन अगर आप किसी परिस्थिति में आकर उन्हें बोतल से दूध पिला रहे हैंस्तनपान की तरह शिशु को बोतल से दूध भी सही पॉजिशन में ही पिलाएं। 
ध्यान रखें कि बोतल से दूध पिलाने के दौरान उनका सिर हल्का का उठा हुआ होना चाहिए, अगर आप उन्हें लिटाकर दूध पिलाते हैं तो इससे बच्चों को कान में इन्फेक्शन हो सकता है। 
दूध पिलाते समय बोतल को थोड़ा सा तिरछा कर लें। इससे बच्चा सही से दूध पी पाएगा। 

Baby Helth Care: क्या आप जानते है बच्चो को बोटल से दूध पिलाना सही है या गलत क्या प्रभाव पड़ता है बच्चों की सेहत पर ?

बोतल से दूध पिलाने के क्या हैं नुकसान?

बोतल से बच्चों को दूध पिलाने से कई तरह की परेशानियां होने का खतरा रहता है।

  • बच्चों को अगर आप बोतल का दूध पिलाते हैं, तो इससे चोकिंग, कान में इन्फेक्शन की परेशानी हो सकती है। साथ ही शिशु का दांत भी जल्दी टूटने का खतरा रहता है। वहीं, हड्डियों के विकास की क्षमता धीमी होती है। 
  • बच्चों को अगर आप बोतल से दूध पिलाते हैं, तो इससे उन्हें कई तरह की शारीरिक परेशानी हो सकती है। मुख्य रूप से बच्चों को चलने में देरी हो सकती है। इसलिए कोशिश करें कि जितना संभव हो सके, उन्हें मां का ही दूध पिलाएं।
  • बच्चों को अगर आप बोतल से दूध पिलाते हैं, तो उन्हें प्राकृतिक पोषक तत्व नहीं मिल पाता है। मां का दूध बच्चों के विकास के लिए जरूरी होता है, जो उन्हें मिल नहीं पाता है। साथ ही यह शिशु के शरीर के लिए एंडीबॉडीज के रूप में कार्य करता है, जिससे बच्चा बीमार नहीं पड़ता है। अगर आप उन्हें बोतल का दूध पिलाते हैं, तो इससे बच्चा बार-बार बीमार पड़ता है। 
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments