June 14, 2024

Jamia University दुबई में बनाएगी इंटरनेशनल कैम्पस,जानिए इसकी वजह

JMI International Campus: जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी दुबई में अपना इंटरनेशनल कैम्पस शुरू करेगी. इस संबंध में विचार-विमर्श चल रहा है. जानिए क्या है दुबई को चुनने की वजह.

यह भी पढ़े Akshay Kumar के गैराज में है यह धांसू गाड़ियां, कलेक्शन देख फटी रह जाएंगी आंखें

Jamia University दुबई में बनाएगी इंटरनेशनल कैम्पस

JMI प्लेसमेंट: अंतरराष्ट्रीय ऑफर में बढ़ोतरी, 2 MBA छात्रों को 25 लाख रुपये  का ऑफर | शिक्षा समाचार, द इंडियन एक्सप्रेस

Jamia To Set International Campus In Dubai: जामिया मिलिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी जल्द ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराने वाली है. यूनिवर्सिटी की योजना है विदेशी धरती पर कैंपस खोलने की और इस काम के लिए जिस देश को चुना गया है उसका नाम है दुबई. जल्द ही दुबई में जेएमआई का इंटरनेशनल कैम्पस खोला जा सकता है. इस बारे में यूनिवर्सिटी की एग्जीक्यूटिव काउंसिल मीटिंग में चर्चा की गई.

कहां खुलेगा कैम्पस

टीओआई की रिपोर्ट के मुताबिक जामिया का ये इंटरनेशनल कैम्पस दुबई इंटरनेशनल एकेडमिक सिटी, जिसे नॉलेज विलेज भी कहते हैं, में खोला जाएगा. 4 अगस्त को हुई मीटिंग में इस बाबत प्रपोजल रखा गया.

क्या है वजह

problem on narendra modi bbc documentary in jamia millia islamia and jnu  smzs

रिपोर्ट के मुताबिक इस बारे में यूनिवर्सिटी का कहना है कि एनईपी 2020 में हायर एजुकेशन के इंटरनेशनलाइजेशन पर जोर दिया गया है. इसमें कहा गया है कि इंडिया के टॉप रैंक वाले एजुकेशनल इंस्टीट्यूट्स को दुनिया के विभिन्न भागों में ऑफशोर कैम्पस खोलने चाहिए. जैसे कि जामिया एक हाई परफॉर्मिंग इंडियन यूनिवर्सिटी है जिसे नैक से ग्रेड A++ मिला है. साथ ही जो एनाईआरएफ रैंकिंग में लगातार दो साल तक देश की बेस्ट यूनिवर्सिटीज की लिस्ट में तीसरे नंबर पर आयी है इसलिए यूनिवर्सिटी को विदेशी धरती पर कैंपस खोलना चाहिए.

इसके साथ ही जेएमआई को टाइम्स हायर एजुकेशन ने भी अच्छी रैंकिंग दी है. इन सभी पहलुओं को देखते हुए यूनिवर्सिटी इंडियन एजुकेशन को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ले जाना चाहती है और दुबई में कैम्पस खोलने के लिए मिनिस्ट्री ऑफ एजुकेशन से सहयोग की उम्मीद करती है.

यह भी पढ़े AILET Registration 2024 ​एनएलयू में एडमिशन लेने के लिए रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया शुरू,इस तरह करें अप्लाई

दुबई ही क्यों

PMRF Scheme News Update: प्रधानमंत्री रिसर्च फेलोशिप के लिए चुने गए जामिया  के 6 रिसर्च स्कॉलर्स, प्रत्येक को हर मिलेंगे 80 हजार रुपए

इस काम के लिए दुबई को ही क्यों चुना गया इसके पीछे यूनिवर्सिटी ने ये वजह बतायी है.उनका कहना है कि दुबई में 50 प्रतिशत आबादी या तो इंडियन है या इंडियन ओरिजन की है.वहां पर प्राइमरी, सेकेंडरी और सीनियर सेकेंडरी एजुकेशन के लिए बहुत से इंडियन स्कूल खोले गए हैं. अब जरूरत यूनिवर्सिटी लेवल पर इंस्टीट्यूट खोलने की है. इस काम के लिए जेएमआई एक बढ़िया विकल्प है क्योंकि यहां की प्रतिष्ठा जैसा कोई संस्थान अभी दुबई में नहीं है. वहां पर अच्छी शिक्षा का अभाव है इसलिए बहुत से स्टूडेंट नॉर्थ अमेरिका या यूरोप जाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *