किसानों को होंगा जबरदस्त फायदा सौफ की खेती से,जानें पुरी जानकारी

किसानों को होंगा जबरदस्त फायदा सौफ की खेती से,

किसानों को होंगा जबरदस्त फायदा सौफ की खेती से,

किसानों को होंगा जबरदस्त फायदा सौफ की खेती से,जानें पुरी जानकारी सौंफ का इस्तेमाल आमतौर पर मसालो के रूप में किया जाता है।और सौंफ में कई औषधिय गुण पाए जाते हैं।इसे पाचन,कब्ज के उपचार,डायरिया,गले का दर्द और सिरदर्द के उपचार के लिए प्रयोग किया जाता है।और भारत में सौंफ की खेती मुख्य तौर पर राजस्थान, आंध्रप्रदेश, पंजाब, उत्तर प्रदेश, गुजरात, कर्नाटक और हरियाणा में की जाती है।अगर आप भी कम निवेश में अच्छे पैसे कमाना चाहते है तो,आप सौंफ की खेती अच्छी खासी कमाई कर सकते है।

किसानों को होंगा जबरदस्त फायदा सौफ की खेती से,जानें पुरी जानकारी

सौंफ के उत्पादन में गुजरात है सबसे आगे, देखें अन्य पांच राज्यों की लिस्ट -  Photo Gallery -

खेती के लिए उपयुक्त मिट्टी

अगर आप सौंफ की खेती करने के बारे में सोच रहे है तो,इसकी खेती सभी प्रकार की मिट्टी में की जा सकती है।लेकिन सौंफ की खेती के लिए दोमट मिट्टी सर्वोत्तम मानी जाती है।इसके अलावा आप चुने से युक्त बलुई मिट्टी में भी इसकी खेती की जा सकती है।इसकी अच्छी फसल लेने के लिए उचित जल निकासी वाली भूमि होना जरुरी होता है।

सौंफ की उन्नत किस्में

आरएफ- 35
आरएफ- 101
आरएफ- 125
गुजरात सौंफ 1
अजमेर सौंफ- 2
दयपुर एफ- 31
चबाने वाली सौंफ की लखनवी किस्म को परागगण के 30-45 दिन बाद तुड़ाई कर सकते है।

यह भी पढ़े सेहत के लिए बहुत ही फायदेमंद होते है,स्ट्रॉबेरी जानें इसके अनोखे फायदे

सौंफ की खेती की तैयारी

सौंफ की खेती करने के लिए सबसे पहले खेत की जुताई करना जरुरी है।इसकी पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से तथा बाद में तीन से चार जुताई हल या कल्टीवेटर से कर के खेत को समतल बनाकर पाटा लगाते हुए एक सा बना लेना चाहिए।आखिरी जुताई में 150 से 200 टन गोबर की सड़ी हुई खाद को मिलाकर खेत को पाटा लगाकर समतल कर लेना चाहिए।इसके अलावा बीजों की बुआई करने के 30 और 70 दिन के बाद फास्फेट की 40 किलोग्राम मात्रा प्रति हेक्टर में डालना जरुरी होता है।

खेती में लागत और कमाई

किसानों को होंगा जबरदस्त फायदा सौफ की खेती से,जानें पुरी जानकारी

fennel farming Archives - Krishi Bhoomi

मिली हुई जानकारी के अनुसार आपको बता दे की यदि किसान एक हेक्टेयर में सौंफ की खेती करते हैं तो उसमें करीब 20-30 हजार रुपए तक का खर्चा आ जाता है। यदि इस हेक्टेयर की फसल को बेचा जाए तो इससे किसानों को करीब 2 लाख रुपए की तगड़ी कमाई कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *