सरसों की खेती से किसानों को होंगा जबरदस्त मुनाफा,जाने पुरी जानकारी

सरसों की खेती से किसानों को होंगा जबरदस्त मुनाफा

सरसों की खेती से किसानों को होंगा जबरदस्त मुनाफा

सरसों की खेती से किसानों को होंगा जबरदस्त मुनाफा,जाने पुरी जानकारी सरसों की खेती किसानो के लिए बेहद फायदेमंद है।इसे देश के कई राज्यों जैसे राजस्थान,पंजाब,हरियाणा और उत्तर प्रदेश में इसकी खेती मुख्यता से की जाती है।आप भी सरसो की खेती कर कम समय में अच्छी कमाई कर सकते है।और आपको बता दे की सरसो की खेती करने में आपको ज्यादा मेहनत करने की भी जरुरत नहीं होती है।जानते है इस खेती के बारे में,

सरसों की खेती से किसानों को होंगा जबरदस्त मुनाफा,जाने पुरी जानकारी

Farmers Income: सरसों की खेती से होगी किसानों को जबरदस्त कमाई, अपनाएं  वैज्ञानिक टिप्स - farmers income tips mustard crop sarson ki kheti kisan  mustard varieties ssnd – News18 हिंदी

खेती के लिए मिट्टी

आपको बता दे की सरसों की खेती शरद ऋतु में की जाती है.अच्छे उत्पादन के लिए 15 से 25 सेल्सियस तापमान उपयुक्त माना जाता है।आमतौर पर देखा जाये तो इसकी खेती सभी मिट्टी में कई जा सकती है लेकिन बलुई दोमट मृदा सर्वाधिक उपयुक्त होती है. यह फसल हल्की क्षारीयता को सहन कर सकती है.लेकिन मिट्टी अम्लीय नहीं होनी चाहिए।

सरसों की उन्नत किस्में

इसकी खेती करने के लिए प्रतिवर्ष बीज खरीदने की आवश्यकता नही है क्योंकि बीज काफी महंगे आते हैं,इसलिए जो बीज आपने पिछले वर्ष बोया था यदि उसका उत्पादन या आपके किसी किसान साथी का उत्पादन बेहतरीन रहा हो तो आप उस बीज की सफाई और ग्रेडिंग करके उसमें से रोगमुक्त ओर मोटे दानों को अलग करें एवम उसको बीजोपचार करके बुबाई करें तो भी अच्छे परिणाम प्राप्त होंगे, लेकिन जिन किसान भाइयों के पास ऐसे बीज नहीं हैं, वे इन किस्मो का बीज बुबाई कर सकते हैं।
आर एच 30
टी 59 (वरूणा)
पूसा बोल्ड
अरावली (आर.एन.393)

यह भी पढ़े Beautiful neck piece design:खुबसुरती में चार चांद लगा देंगे ये नेक पीस डिजाइन,देखें लेटेस्ट कलेक्शन

खेती की तैयारी

सरसों की खेती करने के लिए भुरभुरी मिट्टी की आवश्यकता होती है.इसके लिए खरीफ की कटाई के बाद एक गहरी जुताई करनी होती है। तथा इसके बाद तीन चार बार देसी हल से जुताई करना होता है और नमी संरक्षण के लिए हमे पाटा लगाना चाहिए। और खेत में दीमक, चितकबरा एवं अन्य कीटो का प्रकोप अधिक हो तो, नियंत्रण हेतु अन्तिम जुताई के समय क्यूनालफॉस 1.5 प्रतिशत चूर्ण 25 किलोग्राम प्रति हेक्टयर की दर से खेत मे मिलना चाहिए. साथ ही, उत्पादन बढ़ाने हेतु 2 से 3 किलोग्राम एजोटोबेक्टर एवं पी.ए.बी कल्चर की 50 किलोग्राम सड़ी हुई गोबर की खाद या वर्मीकल्चर में मिलाकर अंतिम जुताई से पूर्व मिला देना चाहिए।

सरसो का उत्पादन और कमाई

सरसों की खेती से किसानों को होंगा जबरदस्त मुनाफा,जाने पुरी जानकारी

Mustard Farming: बढ़िया उपज और बंपर मुनाफे के लिए कब और कैसे करें सरसों की  बुवाई? यहां पढ़े पूरी जानकारी - sarso ki kheti sow mustard to earn bumper  profit sarson ki

प्रोग्रेसिव किसान सुरेश कुमार बताते हैं कि एक एकड़ में सरसों की बिजाई पर 4000 रुपए खर्चा आता है।इससे 12 से 15 क्विंटल सरसों प्राप्त होती है जो चार से पांच हजार रुपए प्रति क्विंटल बिकती है। इससे 50 से 60 हजार रुपए की कमाई हो जाती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *