Sunday, February 25, 2024
HomeMPमध्यप्रदेश में मोहन यादव सरकार ने किया बड़ा एलान,बुखार से बचाव के...

मध्यप्रदेश में मोहन यादव सरकार ने किया बड़ा एलान,बुखार से बचाव के लिए लगाने होंगे टीके

मध्यप्रदेश में मोहन यादव सरकार ने किया बड़ा एलान,मध्य प्रदेश की मोहन यादव सरकार की तरफ से राज्य की जनता के लिए एक खुशखबरी है। दरअसल मोहन यादव सरकार द्वारा सभी प्रदेश वासियों के लिए स्वास्थ्य अभियान की शुरुआत होने वाली है। इस अभियान तहत 15 साल तक के 2.5 लाख बच्चों को फ्री में टीका लगाया जाएगा। इस अभियान की शुरुआत प्रदेश के भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद और सागर जिलों में मार्च में की जाएगी। यह टीकाकरण जापानी बुखार से बचाव के लिए किया जाएगा।

मध्यप्रदेश में मोहन यादव सरकार ने किया बड़ा एलान,बुखार से बचाव के लिए लगाने होंगे टीके

जापानी बुखार के लिए टीकाकरण

बता दें कि, मध्य प्रदेश में साल 2015 से लेकर 2022 तक जापानी बुखार के कई मामले सामने आए थे, जिसके चलते कई लोगों की मौत भी हुई थी। जापानी बुखार से बचाव के लिए राज्य सरकार ने केंद्र सरकार से 25 लाख डोज़ मांगे थे। केंद्र ने राज्य सरकार की मांग स्वीकार कर ली, जिसके बाद मध्य प्रदेश में इस फ्री टीकाकरण अभियान का ऐलान किया गया, जो अब राज्य के भोपाल, इंदौर, होशंगाबाद और सागर जिलों में 1 मार्च से शुरू किया जाएगा। मालूम हो कि पिछले साल भी रायसेन, विदिशा और भोपाल जिलों में फ्री में बच्चों को टीका लगाया गया था। साल 2022 में जापानी बुखार से 70 लोगों की मौत हुई थी।

यह भी पढ़े Kisan Samman Nidhi Yojana:मोदी सरकार ने किया बढ़ा ऐलान किसानों की बल्लेबल्ले,बढ़ेगी राशि

क्या होता है जापानी बुखार

मध्यप्रदेश में मोहन यादव सरकार ने किया बड़ा एलान,बुखार से बचाव के लिए लगाने होंगे टीके

जानकारी के अनुसार, फ्लेविवायरस से संक्रमित मच्छर के काटने से जापानी बुखार होता है।यह मच्छर उन जगहों में ज्यादा पाए जाते हैं जहां धान की खेती सबसे ज्यादा की जाती है। हम सभी जानते हैं कि मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में धान की खेती किस लेवल पर की जाती है। इसलिए इन दोनों राज्यों से जापानी बुखार के सबसे ज्यादा मामले सामने आते हैं। बता दें कि जापानी बुखार का असर मच्छर काटने के 15 से 20 दिन के बाद नजर आता है। बुखार, गर्दन में अकड़न और घबराहट ठंड और कंपकंपी जैसी समस्याएं जापानी बुखार का लक्षण है। कई मामलों में जापानी बुखार से पीड़ित व्यक्ति को सांस लेने में भी परेशानी होती है। वहीं कई गंभीर मामलों में तो व्यक्ति कोमा तक में चला जाता है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments