July 16, 2024

MP 2023 पटवारी भर्ती पर लगी रोक,इससे काफी बवाल हुआ 9 हजार पद के लिए रिजल्ट की घोषणा ,

MP Patwari Bharti 2023: मध्य प्रदेश में चल रही पटवारी भर्ती पर फिलहाल रोक लगा दी गई है. इसके अंतर्गत 9 हजार पद पर भर्ती होनी है. इस बारे में लेटेस्ट अपडेट क्या है, जानते हैं.

यह भी पढ़े Matar Makhana Sabji: घर पर बनाए स्पेशल सब्जी स्वाद में जबरदस्त लगती है मटर मखाना की सब्जी,जानें रेसिपी

पटवारी भर्ती पर लगी रोक

MP Patwari Bharti 2023: 978270 अभ्यर्थियों के लिए बड़ी खबर, पटवारी भर्ती  2023 पर सीएम शिवराज ने लगाई रोक, मंडल ने दिया जवाब | Big news for 978270  candidates, CM Shivraj banned Patwari ...

MP Patwari Bharti : मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने एमपी पटवारी भर्ती पर मचे हाहाकार के बाद इस पर रोक लगा दी है. हाल ही में इस परीक्षा के नतीजे जारी किए गए हैं और उसके बाद से कैंडिडेट्स इस एग्जाम में घोटाला होने की बात कह रहे हैं. दरअसल मामला ये है कि बीती 30 जून को मध्य प्रदेश इंप्लॉइज सेलेक्शन बोर्ड ने एमपी पटवारी भर्ती परीक्षा 2023 के नतीजे जारी किए. इन नतीजों में टॉप करने वाले दस में से सात कैंडिडेट एक ही सेंटर के हैं. ये जानकारी सामने आने के बाद उम्मीदवारों ने सवाल उठाए और भर्ती प्रक्रिया की पारदर्शिता पर शंका जाहिर की. मामला बढ़ने पर इस पर रोक लगा दी गई है.

क्या लिखा है ट्वीट में

पटवारी भर्ती रुक सकती है | आन्दोलन का असर | पटवारी फर्जीवाडा आया सामने | कब  मिलेगा न्याय - YouTube

व्यापम स्कैम के आरोप लगने पर मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान ने ट्वीट किया और कहा कि, ‘ग्रुप 2, सब – ग्रुप – 4 और पटवारी रिक्रूटमेंट एग्जामिनेशन पर स्टाफ सेलेक्शन बोर्ड ने सवाल खड़े किए हैं. मैं इस परीक्षा के आधार पर हुई नियुक्तियों को रोकता हूं. इस सेंटर का रिजल्ट फिर से चेक किया जाएगा.’

इस सेंटर के कैंडिडेट बनें टॉपर

पटवारी भर्ती परीक्षा में 'धांधली' के खिलाफ हजारों उम्मीदवार सड़क पर, कई  जिला कलेक्टर ऑफिस घेरे - Candidates demanded CBI probe in MP Patwari exam  scam, stormed to collector ...

एमपी पटवारी भर्ती परीक्षा 2023 के नतीजे 30 जून के दिन रिलीज हुए थे. ये रिजल्ट ग्रुप टू और सब ग्रुप फोर के लिए जारी हुए थे. ऑफिशियल लिस्ट के मुताबिक एमपी पटवारी परीक्षा के टॉप टेन टॉपर्स में से सात टॉपर एनआरआई कॉलेज, ग्वालियर के हैं.इस रिजल्ट को कैंडिडेट्स ने स्वीकार नहीं किया और गड़बड़ी का आरोप लगाया।

उनका कहना था कि इन कैंडिडेट्स ने एग्जामिनेशन फॉर्म हिंदी में साइन किया और इन्होंने क्वैश्चन पेपर इंग्लिश में आंसर किए.ये परीक्षा मध्य प्रदेश इंप्लॉइज सेलेक्शन बोर्ड जिसे पहले प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड के नाम से जानते थे या जिसे व्यावसायिक परीक्षा मंडल भी कहते हैं के द्वारा आयोजित की गई है. डिटेल और अपडेट जानने के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर नजर बनाए रखें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *